हिमाचल के हर जिला में बनेंगे वाटर हार्वेस्टिंग प्रोजेक्ट

सिंचाई एवं जन स्वास्थय मंत्री ठाकुर कौंल सिंह ने कहा राज्य के प्रत्येक जिला में हमीरपुर की तरह वाटर हार्वेसिटंग प्रोजेक्ट बनाए जाएंगे | उन्होने कहा कि इसी की तर्ज पर अन्य जिलों में भी वाटर हार्वेसिटंग प्रोजेक्ट बनाने की सरकार की योजना है | सिंचाई एवं जन स्वास्थय मंत्री ने कहा कि बेहतर जल प्रबन्धन तभी हो सकता है जब एक ही विभाग को दायित्व सौंपा जाए | इसके बावजूद नियमो को देखते हुए यह संभव है | सरकार का प्रयास है कि सीमित साधनों से बेहतर जल प्रबन्धन किया जाए| वह भाजपा विधायक रमेश धवाला द्वारा प्रस्तुत गैर सरकारी संकल्प का उतर दे रहे थे |
ठाकुर कौंल सिह ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा अपनी जल नीति बनाई है, इस जल नीति का मूल मंत्र सभी को समूचित मात्रा में पेयजल की उपलब्धता त्तथा सिंचाई योग्य भूमि में जनसधारण के समूहिक योगदान से जल का सरक्षण एवं प्रबंधन की लम्बी अवधी के लिए जल संरक्षण हेतु समुचित उपाय करना है | प्रदेश में जल को प्राथमिकता पर रखा गया है तथा सरकार की घोषित नीति के अनुसार प्रदेश की सभी बस्तियों एवं शहरो को समुचित मात्रा में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाने की वचनबद्धता दर्शाई गई है|
भू-गर्भ वैज्ञानिक के अध्ययन से मालूम पङा है कि हिमाचल के तराई वाले क्षेत्रो में भू-जल उपलब्ध है | ये मुख्यतः ऊना, पाँवटा, वैली, नालागढ क्षेत्र,इदोरा ट्रेक (कांगडा)एवं बल्ह वैली में मौजूद है | वर्तमान सरकार इस भू-गर्भ जल के दोहन पर अति गंभीर है | प्रदेश के सभी नगरो में बनने वाले मकानो, सरकारी भवनों औद्योगिक इकाइयों, ओर होटलों इत्यादि में वर्षा जल संग्रहण प्रणाली अनीवार्य किया गया है |
सिंचाई एवं जन स्वास्थय विभाग ने 66 भवनो में वर्षा जल संग्रहण का कार्य पूर्ण कर लिया है | अधीक्षण अभियंता, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार होटलों में वर्षा जल संग्रहण का कार्य 151जिससे 21 लाख लीटर अतिरिक्त पानी संग्रहित हो रहा है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.